आभासी वास्तविकता क्या है – virtual reality in hindi

आभासी वास्तविकता: एक कृत्रिम वातावरण जो सॉफ्टवेयर की मदद से बनाया जाता है। इसके अलावा, यह उपयोगकर्ता को इस तरह से प्रस्तुत किया जाता है जो उपयोगकर्ता को वास्तविक होने के लिए प्रेरित करता है। यानी उपयोगकर्ता आसानी से विश्वास कर सकता है कि वह जो देख रहा है, सुन रहा है और महसूस कर रहा है वह वास्तव में मौजूद है। वह इसे वास्तविक वातावरण के रूप में स्वीकार करता है। कंप्यूटर हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर की मदद से पूरी तरह से यथार्थवादी वातावरण बनाया जाता है। लेकिन वास्तव में यह सिर्फ एक काल्पनिक माहौल है।

इसलिए आज मैंने सोचा कि क्यों न आप लोगों को वर्चुअल रियलिटी क्या है हिंदी में जानकारी प्रदान की जाए, जिससे आपको इस तकनीक को समझने में आसानी होगी। तो बिना देर किये चलिए शुरू करते हैं.

आभासी वास्तविकता क्या है

आभासी वास्तविकता: दो शब्दों ‘वर्चुअल’ और ‘रियलिटी’ का मेल। जहाँ ‘वर्चुअल’ का अर्थ है निकट (निकट) और वास्तविकता का अर्थ है वह अनुभव जो हम मनुष्य महसूस करते हैं (सत्य की तरह)। इसलिए ‘आभासी वास्तविकता’ का अर्थ वास्तविकता की तरह है। इसका मतलब है कि यह एक विशिष्ट प्रकार का वास्तविकता अनुकरण है।

वर्चुअल रियलिटी (VR) एक प्रकार का अनुभव है जिसे केवल कंप्यूटर और हार्डवेयर की मदद से अनुभव किया जाता है। एक ऐसी विश्वसनीय, इंटरैक्टिव 3डी कंप्यूटर-निर्मित दुनिया है जिसे आप मानसिक और शारीरिक रूप से महसूस कर सकते हैं।

वर्चुअल रियलिटी की विशेषताएं हिंदी में

तो आइए जानते हैं वर्चुअल रियलिटी के कुछ जरूरी फीचर्स:

1. विश्वसनीय:

जैसे-जैसे आप ऐसी आभासी दुनिया में विश्वास करते रहेंगे, आपको बिल्कुल भी पता नहीं चलेगा कि यह आभासी वास्तविकता है या नहीं।

2. इंटरएक्टिव:

इस आभासी दुनिया को अपने साथ ले जाना होगा ताकि ऐसा लगे कि यह अधिक इंटरैक्टिव दिखता है। अगर यह ज्यादा इंटरेक्टिव नहीं दिखता है तो इसे वर्चुअल रियलिटी नहीं कहा जा सकता।

3. कंप्यूटर जनित:

यह बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि केवल शक्तिशाली मशीनें, जिनमें यथार्थवादी 3D कंप्यूटर ग्राफिक्स का उपयोग किया जाता है, का उपयोग किया जाता है ताकि यह इतनी तेज हो कि यह एक विश्वसनीय, इंटरैक्टिव, वैकल्पिक दुनिया बना सके। इससे इसे रीयल-टाइम में आसानी से बदला जा सकता है, जिससे यह अधिक वास्तविक दिखाई देता है।

4. खोजे जाने योग्य:

एक वीआर दुनिया बड़ी और विस्तृत होनी चाहिए ताकि इसे अच्छे तरीके से खोजा जा सके। यह एक पेंटिंग जितनी यथार्थवादी है, लेकिन अगर इसमें अधिक विवरण नहीं है तो यह बहुत अधिक खोज योग्य नहीं होगी। एक बेहतर VR के लिए एक्सप्लोरेबल होना बहुत जरूरी है।

5. इमर्सिव:

VR को अधिक विश्वसनीय और इंटरैक्टिव बनाने के लिए, VR को हमारे शरीर और दिमाग दोनों के लिए तल्लीन होना चाहिए। अगर कोई चीज ज्यादा आकर्षक नहीं होगी तो वह हमारे दिमाग को ज्यादा आकर्षित नहीं कर पाएगी जिससे हमें वास्तविकता के बारे में आसानी से पता चल जाएगा। तो जितना अधिक इमर्सिव वीआर होगा, उतना ही वास्तविक लगेगा।

आभासी वास्तविकता क्या है – virtual reality in hindi
Previous articleNFC क्या है – NFC का फुल फॉर्म – nfc कैसे काम करता है
Next articleअनुकंपी तंत्रिकातंत्र कैसे काम करता हैं – Sympathetic nervous system hindi