ग्लोबल वार्मिंग क्या हैं ? ये कैसे काम करता हैं

आज हम आपको इस पोस्ट में गलोबल वार्मिंग से जुड़ी सारी सामान्य जानकारी देने वाले है,तो हमारे पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़िये 

ग्लोबल वार्मिंग क्या है ?

हमारे सौर मण्डल में कई तरह के ग्रह है या तो वो ज्यादा गर्म है  या ज्यादा ठण्डे है. लेकिन पृथ्वी का वातावरण में मध्यम तापमान होता है। इसलिए यहाँ सजीव है और जीवन संभव है। लेकिन कुछ सालो से पृथ्वी का तापमान अस्थिर हो रहा है मतलब की यह का तापमान बढ़ रहा है और सरल में इसे ही ग्लोबल वार्मिंग कहा जाता है.

पृथ्वी के औसत तापमान जोकि १४ से १५ डिग्री होता है उसमे काफी में वृद्धि हो जाये तो उसे ही हरित ग्रह या ग्लोबल वार्मिंग का प्रभाव कहते है.पृथ्वी के औसत तापमान में निरंतर वृद्धि होती जा रही है जो की यहाँ पर रहने वाले सजीव जीवन के लिए काफी बुरा संकेत है.सूर्य से आने वाली अल्ट्रा वॉइलेट किरणे सीधे ही हमारे पृथ्वी तक आ जाती है पर कुछ हरित ग्रह गैसों ने हमारे वायुमंडल में एक ऐसी परत बना कर रख ली है जिसके कारण से हमारे पृथ्वी की गर्मी  अंतरिक्ष में जा नही पाती है.जिससे पृथ्वी का तापमान निरंतर बढ़ रहा है और ये काफी खतरनाक है.

ग्लोबल वार्मिंग के कुछ प्रभाव…

१ .जीव जंतु जो अधिक तापमान को सहन नहीं कर पाते है वो  जाहिर है वातावरण का तापमान बढ़ने से मरने ही लगेंगे.

२ .मानव जीवन पर संकट – पृथ्वी पर काफी तेजी से ताप बढ़ेगा तो उच्च एवं मध्य अक्षांशो में रहने वाले लोगो को स्वास्थ्य में काफी बुरा प्रभाव पड़ेगा।

३.समुद्री जल स्तर- लगातार इस बढ़ते हुए प्रदुषण के कारण ही वातावरण का ताप भी तेजी से बढ़ेगा तो ऐसे में ध्रुवो से बर्फ पिघल कर समुद्रों में आ जाएँगी.

भारत का सबसे गर्म स्थान

४ .कृषि भूमि- पृथ्वी का तापमान बढ़ने के चलते कृषि भूमि की उपजता में कमी आयी है.

५ . हिमनदों – हमारे वातावरण के तापमान में बढने से बर्फ के पिघलने का डर काफी बढ़ती जा रही है.जिससे हिमालय के सारे हिमनदो हिम झीलों में परिवर्तित हो जायेंगे.

ग्लोबल वार्मिंग के क्या कारण हो सकते है ?

ग्रीन हाउस गैसे जलवायु के गर्म होने का सबसे बड़ा कारण ये ग्रीन हाउस गैसे ही होती है.ग्रीन हाउस हम जैसे मनुष्य द्वारा कोयला,तेल,बिजली,एयर कंडीशनर जैसे चीजों के उपयोग से क्लोरो फ्लोरो कार्बन जैसी गैसों का उत्पादन होता है.जो एक विषैली गैस है।

उर्वरक…

बढ़ती हुई जनसँख्या के कारण से ज्यादा अन्न के पैदावार की मांग होती जा रही है जिसके लिए अत्यधिक कार्बनिक खाद और उर्वरको का इस्तेमाल किया जा रहा है.

वनो की कटाई…

बढ़ती जनसँख्या के आवास एवं कृषि भूमि के लिए वनो की अंधाधुंध कटाई की जाने से भारी मात्रा में विषैली गैसें निकलती है.

ग्लोबल वार्मिंग को रोकने के उपाय !

अब कुछ लोग का ये सवाल रहता है की ग्लोबल वार्मिंग को कैसे रोक सकते है ?

ड्राइविंग कम से कम करे…

वायु प्रदुषण ही इसका एक प्रमुख ऐसा कारण है, जिससे चलते ग्रीन हाउस गैसे बढ़ती है.इसलिए निजी वाहन का उपयोग जितना हो कम कीजिए.

वृक्षारोपण…

ग्लोबल वार्मिंग को कम करने का एक बहुत ही अच्छा उपाय है.वृक्ष अपनी स्वसन क्रिया में कार्बन डाइऑक्सिड को ग्रहण करते है.

विधुत उपकरणों का कम से कम उपयोग करे…

घर में बिजली से चलने वाले उपकरणों जैसे- टीवी,फ्रीज,कंप्यूटर,एयर कंडीशनर का कम से कम उपयोग कीजिये. इससे काफी ज्यादा मात्रा में कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा को कम किया जा सकते है।

ग्लोबल वार्मिंग क्या हैं ? ये कैसे काम करता हैं
Previous articleAM और PM का क्या मतलब होता हैं
Next articleWHO आखिर क्या है ? WHO का फुल फॉर्म क्या हैं