टीआरपी क्या है? – टीआरपी का फुल फॉर्म क्या है?

TRP क्या है दोस्तों, हम इस लेख में आपसे TRP के बारे में बात करने जा रहे हैं, जो आजकल एक बहुत ही लोकप्रिय विषय बन गया है। टीआरपी के इस खेल में न्यूज चैनल तो काफी आगे निकल चुके हैं, लेकिन उन पर टीआरपी फ्रॉड का अंदेशा है।

आज के इस आर्टिकल में आप ये जानने वाले हैं कि आखिर ये TRP क्या है? और भारत में TRP का मालिक कौन सी कंपनी है?

टीआरपी कैसे काम करती है, आपको इस लेख में इन सभी सवालों के जवाब जानने वाले हैं। सबसे पहले बात करते हैं कि टीआरपी क्या है।

टीआरपी क्या है?

जैसा कि आपने न्यूज चैनल में टॉप के बारे में सुना होगा लेकिन आप इस बात को लेकर असमंजस में
हैं कि टीआरपी किस पक्षी का नाम है। तो हम आपको बता दें कि यह किसी पक्षी का नाम नहीं है, यह एक ऐसी चीज है जिसके बिना शायद ही आपको टीवी चैनल देखने को मिले।

टीआरपी टीवी चैनल लेना बहुत जरूरी है, जिसके बिना कोई भी टीवी चैनल विकसित नहीं हो सकता और न ही बाजार में अपना अस्तित्व स्थापित कर सकता है। टीआरपी कैसे कैलकुलेट करें हिंदी में TRP का पूरा नाम (Television Ratings Points) है और इसी वजह से सभी टीवी चैनल अपनी TRP बढ़ाने में लगे हुए हैं और इस वजह से टेलीविजन के एंकर चिल्लाते रहते हैं कि हमारा चैनल नंबर वन है, मेरा चैनल नंबर वन है। .

टीआरपी क्या है हिंदी में और टीवी चैनल शो को इस तरह से तैयार करते हैं कि उनका शो ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचे 
ताकि वे ज्यादा से ज्यादा कमा सकें और इसे और विस्तार से समझ सकें।

टीआरपी का फुल फॉर्म क्या है?

TRP का फुल फॉर्म क्या होता है तो हम आपको बता दें कि TRP का फुल फॉर्म (Television Ratings Points) होता है। इन बिंदुओं से ही पता चलता है। कौन सा शो कितनी बार देखा गया है और कितने लोगो तक पहुंचा है। ये पॉइंट ही बताते हैं कि कौन सा शो हिट हो रहा है और लोग इसे कितना पसंद कर रहे हैं, इसीलिए टीवी चैनलों के साथ उनके शो में वे अपने चैनल की तारीफ करते नजर आते हैं.

टीआरपी कैसे पता करें। टीआरपी रेटिंग कैसे पता करें ?

टीआरपी कैसे पता चलेगा, तो हम आपको बता दें 
कि टीवी चैनलों की रेटिंग देखने के लिए कुछ शहरों या गांवों में कुछ शहरों या गांवों में एक विशेष प्रकार का उपकरण लगाया जाता है, जिसे पीपल मीटर कहा जाता है।

किसी के घरों में पीपल मीटर नहीं लगाए जाते हैं, इसके लिए एक खास जगह का चयन किया जाता है और यह लोग मीटर उनके घरों में लगवाए जाते हैं। और इसका विवरण सार्वजनिक नहीं किया जाता है, इसे गुप्त रखा जाता है। और यह सबसे महत्वपूर्ण है, अन्यथा कोई भी टीवी चैनलों के साथ डेटा में हेरफेर कर सकता है।

और यही लोग मीटर इस चैनल या शो के बारे में बताते हैं कि लोग कितनी देर और किस दिन देखते हैं और कितनी देर तक ऐसे ही लोग मीटर काम करते हैं।

घरों में लोग मीटर कैसे लगाते हैं?

घरों में पीपल मीटर लगाने का एक आसान तरीका है। घर में लगे सेटअप बॉक्स को केबल के जरिए सेटअप बॉक्स से जोड़ा जाता है, जिसके बाद पीपल मीटर काम करना शुरू कर देते हैं। आपको बता दें कि सामान्य टीवी कनेक्शन में टीआरपी नहीं मापी जा सकती।

लोगों के मीटर के लिए एक सेटअप बॉक्स होता है, केबल कनेक्शन की आवश्यकता होती है, इन लोगों के मीटर विशेष स्थानों पर स्थापित होते हैं, टीआरपी से संबंधित सभी डेटा मुख्यालय को भेजे जाते हैं। जिसके बाद कंपनी हर हफ्ते एक नई टीआरपी जारी करती है। और यह पता चल जाता है कि कौन सा चैनल लोगो को ज्यादा पसंद आता है और टीवी चैनल अपने विज्ञापनों के रेट बढ़ा देता है।

टीआरपी क्या है? – टीआरपी का फुल फॉर्म क्या है?
Previous articleब्लॉग यह क्या है? – ब्लॉगिंग क्या है?
Next articleरीफर्बिश्ड फोन क्या होता है?रिफर्बिश्ड मीनिंग इन हिंदी।