मदरबोर्ड क्या है – मदरबोर्ड के कार्य – मदरबोर्ड कैसे चुनें

मदरबोर्ड कंप्यूटर का एक मुख्य प्रिंटेड सर्किट बोर्ड (पीसीबी) है। ऐसा कहकर आप मदरबोर्ड को कंप्यूटर का सेंट्रल कम्युनिकेशन बैकबोन कनेक्टिविटी पॉइंट भी कह सकते हैं, जिसके जरिए सभी कंपोनेंट्स और एक्सटर्नल पेरिफेरल्स कनेक्ट या कनेक्टेड होते हैं। आपने देखा होगा कि एक उपकरण जो सभी उपकरणों को जोड़ता है, जो सभी घटकों को एक साथ जोड़े रखता है, उसे मदरबोर्ड कहा जाता है। मदरबोर्ड कंप्यूटर के सभी भागों को शक्ति प्राप्त करने और एक दूसरे के साथ संचार करने की अनुमति देता है।

लेकिन आजकल मदरबोर्ड में बहुत से बदलाव आ चुके हैं, जिसमें कई ऐसे फीचर जोड़े गए हैं, जिससे कंप्यूटर की क्षमता और उसके अपग्रेड करने की क्षमता काफी हद तक बढ़ गई है। आज हम इस विषय के बारे में जानेंगे कि Motherboard क्या है और यह कैसे काम करता है। तो देर किस बात की, चलिए शुरू करते हैं।

मदरबोर्ड क्या है

मदरबोर्ड किसी भी कंप्यूटर की रीढ़ की हड्डी होती है, यह एक ऐसी कड़ी होती है कि सभी घटक एक दूसरे से जुड़े होते हैं, जैसे कि यह एक हब के रूप में काम कर रहा हो, जिसके माध्यम से कंप्यूटर के अन्य उपकरण जुड़े होते हैं। वे उपयोगकर्ता की आवश्यकताओं के अनुसार विभिन्न रूपों में आते हैं ताकि वे अपनी आवश्यकताओं, बजट और गति में फिट हो सकें।

मुख्य रूप से, यह एक पीसीबी (प्रिंटेड सर्किट बोर्ड) है जो कंप्यूटर के विभिन्न घटकों को रखता है ताकि कंप्यूटर कार्य कर सके। सीपीयू, रैम, हार्ड डिस्क के साथ-साथ टीवी कार्ड, ग्राफिक्स आदि जैसे घटक।

सब कुछ पहले मदरबोर्ड से जुड़ा है। मदरबोर्ड ही इस कार्य को सक्षम बनाता है कि सभी को उचित बिजली की आपूर्ति मिलनी चाहिए ताकि वे अपना काम ठीक से कर सकें।

मदरबोर्ड के कार्य:

आइए अब जानते हैं मदरबोर्ड के विभिन्न कार्य क्या हैं:-

• कंपोनेंट का हब: मदरबोर्ड किसी भी कंप्यूटर की रीढ़ की हड्डी की तरह काम करता है जिसमें कंप्यूटर के अन्य हिस्से जैसे सीपीयू, रैम और हार्ड डिस्क स्थापित होते हैं।

• बाहरी बाह्य उपकरणों के लिए स्लॉट: मदरबोर्ड एक प्लेटफॉर्म के रूप में भी काम करता है ताकि यह कई विस्तार स्लॉट प्रदान करे ताकि हम यहां नया डिवाइस या इंटरफ़ेस स्थापित कर सकें।

• बिजली वितरण: मदरबोर्ड की मदद से कंप्यूटर के अन्य घटकों को बिजली की आपूर्ति की जाती है।

• डेटा प्रवाह: मदरबोर्ड एक संचार हब की तरह काम करता है जिसके माध्यम से सभी बाह्य उपकरणों को जोड़ा जाता है। यहां मदरबोर्ड नियंत्रित करता है कि सभी परिधीय आपस में ठीक से संवाद कर सकते हैं। और मदरबोर्ड डेटा ट्रैफिक को मैनेज करता है।

• BIOS: मदरबोर्ड में रीड ओनली मेमोरी होती है, BIOS जो कंप्यूटर को बूट करने के लिए आवश्यक होता है। तो इससे पता चलता है कि कंप्यूटर मदरबोर्ड की मदद से शुरू होता है।

मदरबोर्ड कैसे चुनें

अकेले मदरबोर्ड किसी काम का नहीं है, लेकिन कंप्यूटर को संचालित करने के लिए इसका बहुत महत्व है। इसका मुख्य काम कंप्यूटर की माइक्रो चिप को होल्ड करना है, साथ ही बाकी सभी कंपोनेंट्स को आपस में जोड़ना है।

वे सभी चीजें जो कंप्यूटर को चलाने या उसके प्रदर्शन को बढ़ाने में मदद करती हैं, यह या तो मदरबोर्ड का ही एक हिस्सा होता है या यह किसी स्लॉट या पोर्ट से जुड़ा होता है।

मदरबोर्ड के आकार और लेआउट को फॉर्म फैक्टर कहा जाता है। इस फॉर्म फैक्टर की मदद से यह तय किया जाता है कि मदरबोर्ड को कैसे डिजाइन किया जाए। वैसे तो कई खास फॉर्म फैक्टर होते हैं, जिनके इस्तेमाल से अलग-अलग तरह के स्टैंडर्ड मदरबोर्ड बनाए जाते हैं।

मदरबोर्ड क्या है – मदरबोर्ड के कार्य – मदरबोर्ड कैसे चुनें
Previous articleइंटरनेट का मालिक कौन है? इंटरनेट की शुरुआत कब हुई?
Next articleNFC क्या है – NFC का फुल फॉर्म – nfc कैसे काम करता है