हम दूसरों की पाद क्यों नहीं सूंघ पाते हैं – fart in hindi

क्या आपने कभी यह सोचा है, जब आप कभी पीछे से गैस छोड़ते हो तो, आपको अपनी गैस दूसरों के मुकाबले ज्यादा गंदी क्यों नहीं लगती है और दूसरों की गैस सूंघते ही, आप दूर क्यो भाग जाते हो, उसे क्रिटिसाइज या गाली देना शुरू कर देते हो। और आखिर ये गैस महकती क्यों है? किस कारण से यह हमें दूर भागने पर मजबूर कर देती है. सब कुछ बताएंगे बस आप की वीडियो पूरा देखिए…

एक साधारण व्यक्ति के पेट में 500ml गैसेस हमेशा बनी रहती हैं, जो कि फूड की केमिकल रिएक्शन की वजह से, बैक्टीरिया के chemical reaction की वजह से या जो गैस हम इन्हेल करते हैं, उससे उसकी वजह से, हमारे पेट में गैस परमानेंटली रहती ही रहती है। इसलिए इसमें कोई घबराने की बात नहीं है, यह कोई बीमारी नही है और एक व्यक्ति आमतौर पर 1 दिन में 10 से 20 बार गैस रिलीज करता है।

देखिये पेट से निकलने वाली जो गैस होती है, वह कोई एक गैस नहीं होती है, बल्कि उसमें कई सारी गैसेस मिली हुई होती हैं। इनमें सबसे ज्यादा 59% नाइट्रोजन होता है, 21% हाइड्रोजन होता है, 9% कार्बन डाइऑक्साइड होता है, 7% मीथेन होता है और 4% ऑक्सीजन होता है, और आपको बता दें इनमें से कोई भी गैस महकती नहीं है, यानी गैस के महकने में इनका रोल नहीं है।

चलिए जब आपको यह बात पता चली गई है कि इनमें से कोई भी गैस महकती नहीं है, तो आखिर जब कोई पीछे से गैस रिलीज करता है तो, हमें ये इतना बदबूदार क्यों लगता है। देखें इसके लिए थोड़ा सा आपको पाचन क्रिया की तरफ चलना पड़ेगा, लेकिन जब भी हम कोई भोजन खाते हैं, तो सबसे पहले उसका पाचन होता है और पाचन की क्रिया में जब भोजन इंटेस्टाइन की तरफ जाता है, तब हम सब को यह बात पता है कि हमारे आंतों में छोटे-छोटे माइक्रोब्स और बैक्टीरिया होते हैं, जो हमारे शरीर के लिए बहुत अच्छे होते हैं, यह गुड बैक्टीरिया होते हैं।

विश्व का क्षेत्रफल कितना है – Area of world in in hindi

होता यह है कि भोजन के पाचन की क्रिया में यह बैक्टीरिया, जब कोई हाई सल्फर वाले फूड को देखते हैं, तो यह उसे हाइड्रोजन के साथ केमिकली रिएक्ट करवा h2s यानी हाइड्रोजन सल्फाइड बना लेते हैं, और जब यही गैस पास होती है, तो हमें बहुत ही गंदा सा महसूस होता है। देखिए जो भी फूड सल्फर में हाई होगा, जैसे पत्ता गोभी हो गया या फिर eggs हो गए या मीट हो गए या फिर ड्राई फ्रूट हो गए उन सब में सल्फर ज्यादा पाया जाता है। यही पेट में जाकर हाइड्रोजन सल्फाइड और सल्फर के बाकी के कंपाउंड भी बना लेते हैं और यही जब पेट के गैस में मिलता है तो हमें बदबू सा महसूस होता है।

लेकिन अब हमें यह जानना है कि आखिर जब हम दूसरों की गैस को सूंघते हैं, तो हमें बुरा क्यों लगता है और हम वहां से तुरंत भाग कर जाते हैं और जब अपनी गैस की बारी आती है तो हम उसे smell भी कर लेते हैं और हमे कोई दिक्कत भी नहीं होती है।

देखिए हमारे पेट में कुछ ऐसे बैक्टीरिया होते हैं, जो जो हर व्यक्ति के पेट में अलग-अलग आईडेंटिफाई होते हैं, यह बैक्टीरिया इंटेस्टाइन में फूट को अलग-अलग तरीके से प्रोसेस करके, एक अलग ही प्रकार की स्मेल को डेवेलप करते है। और जब हम अपने ही गैस को सूंघते हैं तो, हमें यह एहसास होता है कि ये हमारे बॉडी का ही पार्ट है, उसे हम पहचान लेते हैं, लेकिन जब हम दूसरे की गैस को सूंघने का प्रयास करता है तो, हमें बहुत बुरा लगता है और वहां से दूर हो जाते हैं।

इसका कारण हमारे evolution से जुड़ा हुआ है, दरअसल जब हम दूसरे की गैस को सूंघते हैं तो हमारा ब्रेन हमें यह बताता है कि यह दूसरे के बॉडी का हिस्सा है, यह हमें इनफेक्टेड भी कर सकता है यानी हमें बीमार भी कर सकता है, इसलिए जितना जल्दी हो सके इस से दूर हो जाओ और किसी भी दूसरे व्यक्ति की बैक्टीरिया या फिर कोई भी pathogen को अपने शरीर के अंदर मत लो।

यही सब कारणों से कोई मां अपने बच्चे की potty को साफ करने में disgust महसूस नहीं करती है। क्योंकि वह उसका बायोलॉजिकल हिस्सा है, लेकिन दूसरों के बच्चों के प्रति एक महिला डिसगस्त महसूस कर सकती है।

Previous articleमच्छर कैसे पैदा होते है – how mosquitoes are born
Next articleबाएँ करवट सोने से क्या होता हैं

1 COMMENT

Comments are closed.