बच्चों को सुलाने का तरीका जिसे आपको जानना चाहिए

अक्सर माता-पिता इस बात से परेशान रहते (Baccho ko sulane ka tarika) हैं कि उनका बच्चा रात में सोता नही। इससे होता क्या हैं कि अगले दिन उन्हें काम करने में दिक्कत होती हैं। यदि आपका बच्चा रात में सोयेगा नही या बार-बार उठेगा तो अवश्य ही आपको अगले दिन काम में दिक्कत आएगी। इससे ना केवल आपकी पूरी दिनचर्या बिगड़ जाएगी बल्कि प्रोडक्टिविटी (Bacchon ko sulane ka tarika) भी घट जाएगी सो अलग।

ऐसे में क्या आप भी बच्चों को सुलाने का तरीका (Bacchon ko sulane ke tarike) ढूँढ रहे हैं तो आप बिल्कुल सही जगह पर आये हैं क्योंकि इस लेख में आपको बच्चों को सुलाने के सबसे बेस्ट तरीके जानने को मिलेंगे। आइए जानते हैं बच्चों को सुलाने के लिए क्या करना चाहिए।

बच्चों को सुलाने का तरीका (Baccho ko sulane ka tarika)

#1. स्तनपान करवाना

अक्सर यह देखने में आता हैं कि यदि हम शांत माहौल में बच्चे को स्तनपान करवा दे तो वह आसानी से सो सकता हैं। यह तरीका कई माओं के द्वारा इस्तेमाल किया जाता हैं और इसमें उन्हें सफलता भी मिलती हैं। इसलिए यदि आपका बच्चा भी सोने में आनाकानी करता हैं तो आप अवश्य ही उससे कुछ देर के लिए स्तनपान करवाए और फिर देखिये कमाल।

#2. लोरी सुनाना

बहुत से बच्चों को लोरी सुनकर सोने की आदत होती हैं। इसलिए आप उन्हें लोरी सुनाएंगे तो वे जल्द ही सो जाएंगे। इसके लिए आप ऑनलाइन लोरी ढूँढ सकते हैं या फिर कोई लोरी की किताब भी खरीद सकते हैं। ऐसा करने से आपके बच्चें को जल्द ही और सही से नींद आ जाएगी।

#3. कमरे का तापमान

यदि आप बच्चें के आसानी से नही सोने या उसके बार-बार उठ जाने के कारण परेशान हैं तो अपने कमरे के तापमान पर ध्यान दे। यह जरुरी नही कि जिस वातावरण में हमे सामान्य लग रहा हो वही अपने बच्चे को भी लगे। क्या पता उसे ठंड लग रही हो या वह गर्मी के कारण परेशान हो। ऐसे में देखे कि क्या वह सिकुड़ कर सो रहा हैं या उसके पसीने ज्यादा निकल रहे हैं। उसी के अनुसार कमरे का तापमान रखें ताकि उसे चैन की नींद आ सके।

#4. झुला झुलाना

यह तरीका आपके बच्चे को जल्दी और आरामदायक नींद दिलवाने में बहुत मदद कर सकता हैं। इसके लिए आप चाहे तो एक पालकी भी खरीद सकते हैं और उस पर अपने बच्चें को झुला झुला सकते हैं। इसके अलावा आप खुद उसे गोदी में लेकर इधर-उधर घूमकर झुला झुला सकते हैं ताकि उसे नींद आ जाये। यह तरीका भी बहुत से माता-पिता अपनाते हैं जिससे कि उनके बच्चें को एक सुखद नींद आ सके।

त्वचा का ध्यान कैसे रखें? जाने स्किन केयर टिप्स इन हिंदी

#5. आसपास शोर ना हो

यदि आसपास किसी ना किसी चीज़ का शोर रहता है या फिर आपको देर तक टीवी देखने की आदत हैं या आप तेज आवाज़ में बात करते हैं तो आज से ही इसे बदल डाले। यदि आप तेज आवाज़ करेंगे तो इससे आपके बच्चें की नींद टूट जाएगी और फिर वह जल्दी से मुश्किल से ही सो पाएगा। ऐसे में उसके सोने के समय या सोने के बाद उसके आसपास तेज आवाज़ ना हो, इस बात का पूरा-पूरा ध्यान बनाए रखें।

#6. रोशनी सही रखें

दरअसल आपका बच्चा जहाँ सो रहा हैं वहां रोशनी का स्तर कैसा है, इस पर भी बहुत कुछ मायने रखता है। यदि कमरे में रोशनी का स्तर बहुत ज्यादा हैं तो इससे आपके बच्चे को बिल्कुल भी नींद नही आयेगी क्योंकि रोशनी आपके बच्चे को सोने नही देगी। इसके विपरीत यदि आप कमरे में बिल्कुल अँधेरा कर देंगे तो आपका बच्चा डर जाएगा और रोने लगेगा। इसलिए अपने बच्चे की अच्छी नींद के लिए कमरे में मध्यम स्तर की रोशनी रखेंगे तो उत्तम रहेगा।

#7. मालिश करना

यदि सोने से पहले बच्चें के शरीर की अच्छे से मालिश कर दी जाए तो यह उनके बेहतर नींद लेने में बहुत सहायक सिद्ध हो सकती हैं। इसलिए आप सोने से कुछ समय पहले हलके हाथ से उनकी मालिश करे और फिर उन्हें सोने दे। आप चाहे तो मालिश के बाद उन्हें नहला भी सकते हैं लेकिन तभी जब गर्मियों का मौसम हो क्योंकि सर्दियों के मौसम में उन्हें रात को नहलाने से ठंड लग सकती हैं और वे बीमार पड़ सकते हैं।

#8. दिन में कम सोने दे

अब आप ही सोचिये यदि आप अपने बच्चे की नींद को दिन में ही पूरा कर देंगे तो वह रात में कैसे ही सो पाएगा। इसलिए इस बात का ध्यान रखे कि वह दिन में उतना ही सोये जितना उसको सोना चाहिए। जरुरत से ज्यादा दिन की नींद उसकी रात की नींद को ही कम करेगी। इसके अलावा उसे शाम में ना सोने दे क्योंकि इससे उसे रात में नींद मुश्किल से ही आएगी।

#9. मध्यम संगीत सुनाये

आपको ऑनलाइन कई ऐसे संगीत मिल जाएंगे जिनमे कोई शब्द नही होंगे, बस मध्यम आवाज में संगीत होगा। इसे आज के समय के अनुसार बच्चों की बेहतर नींद के लिए तैयार किया जाता हैं। आप इन संगीत को अपने बच्चों को सोते समय सुनाएंगे तो उन्हें जल्द ही नींद आ जाएगी।

#10. बच्चे के पास सोये

बहुत से माता-पिता यह गलती करते हैं कि वे अपने बच्चे को अपने से दूर किसी बेड पर या दूसरे कमरे में सुला देते हैं। इससे होता यह हैं कि वह ना तो सोता हैं और साथ ही अपने माता-पिता की नींद भी ख़राब करता हैं। इसलिए आप उसे अपने पास अपने बेड पर सुलायेंगे तो ज्यादा बेहतर रहेगा। अकेले सोने से बच्चे में डर की भावना आती हैं जो उसे सोने नही देती। इसलिए आगे से आप अपने बच्चे को अपने पास सुलाए। फिर जब उसकी नींद गहरी हो जाये तब आप उसे किसी दूसरे कमरे या बेड पर सुला सकते हैं।

Previous articleबच्चों के रोने के कारण जो आपको उसे चुप कराने में करेंगे मदद
Next articleमोटा होने के उपाय जिनसे आपका वजन कुछ ही दिनों में बढ़ने लगेगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here