उत्तर प्रदेश का सबसे बड़ा गांव कौन सा है

क्या आपको पता है कि उत्तर प्रदेश का सबसे बड़ा गांव कौन सा है ? उत्तर प्रदेश तो गांव का ही राज्य है. उत्तर प्रदेश में लगभग 25 करोड़ लोग रहते हैं. जिसमें से उत्तर प्रदेश की शहरी जनसंख्या यानी शहरों की तरफ रहने वाली जनसंख्या मात्र 25% ही है. उत्तर प्रदेश की 70 से 75 फ़ीसदी आबादी तो गांव में ही रहती है.

कारण यह कि उत्तर प्रदेश में औद्योगिकीकरण बाकी राज्यों की तुलना में काफी कम है. यहां की जमीन बिल्कुल भी पथरीली और पहाड़ी नहीं है. उत्तर प्रदेश की जमीन पूरी प्लेन है. जहां पर खेती के लिए सारे संसाधन मौजूद हैं. नदियां हैं और खेती योग्य संस्कृति भी है.

मसालों का सर्वाधिक उत्पादन किस राज्य में होता है

यही कारण है कि यहां पर लोग गांव में बस कर खेती करते हैं. पश्चिमीकरण की तरह यहां पर शहर में बसने वाली कोई परंपरा नहीं है. इसीलिए हर एक उत्तर प्रदेश का व्यक्ति यह जानना चाहता है. उत्तर प्रदेश भारत में गांव की प्रधानता को दिखाता है तो उत्तर प्रदेश में सबसे बड़ा गांव कौन सा है तो चलिए जानते हैं…

up ka sabse bada gaon –

उत्तर प्रदेश के गाजीपुर जो कि उत्तर प्रदेश और बिहार के बॉर्डर पर बसा हुआ जिला है. वहां के एक गांव उत्तर प्रदेश का सबसे बड़ा गांव कहा जाता है. बिल्कुल बिहार बॉर्डर पर मौजूद गाजीपुर का गहमर गांव भारत का सबसे बड़ा गांव माना जाता है. जहां पर कुल 1,20,000 लोग रहते हैं और गांव में कुल 22 पट्टियों में बटा हुआ है.

इंडिया का सबसे बड़ा राज्य अलग अलग दृष्टि से

गांव इतना बड़ा है मानो यह गांव नहीं एक पूरा कस्बा ही हो. गांव का क्षेत्रफल 8 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है. यानी गांव लगभग 3 किलोमीटर लंबाई में और 3 किलोमीटर चौड़ाई में तो फैला ही हुआ है. गांव वाराणसी मुगलसराय रेलवे मार्ग पर ही मौजूद है. इसी कारण यहां पर गहमर नाम का एक रेलवे स्टेशन भी बनाया गया है.

उत्तर प्रदेश की सबसे बड़ी जनजाति कौन सी है

और इस गांव की सबसे बड़ी खासियत यह है कि इस गांव से हर एक घर से कोई न कोई व्यक्ति भारतीय सेना में जरूर रहता है. बताया जाता है कि गांव को 1530 में बसाया गया था और इस गांव के लोगों ने द्वितीय विश्व युद्ध से लेकर प्रथम विश्वयुद्ध तक हर प्रकार के युद्ध को लड़ा है, अंग्रेजों की टोली में जाकर।

सबसे बड़ा एक कोशिका जीव कौन सा है

बताया जाता है कि हर कालखंड में भारतीय सेना में इस गांव से 10,000 लोग तो रहते ही रहते हैं. और अब तक कुल रिटायर हो चुके, जो अभी सेना में नहीं है उनकी बात करें तो 14000 लोग तो इस गांव से रिटायर हो चुके हैं, सेना में सेवा देकर। तो आप समझ सकते हैं कि यह गांव कितना बड़ा गांव है और एक गांव वीरों की भूमि कहा जाता है.