आमाशय कैसे काम करता हैं – working of stomach

देखिये हमारे स्टमक का जो फंक्शन है, वह होता है जो food हम खाएं हैं, उसको छोटे-छोटे टुकड़ों में बिल्कुल महीन महीन टुकड़ों में तोड़ देना। जिससे फूड आसानी से छोटी आंत में पास हो सके और वहां पर आसानी से हमारा फूड हमारे ब्लड में absorb हो सके। हालांकि बहुत थोड़े अमाउंट में लगभग ना के बराबर हमारे stomach में कुछ न्यूट्रिएंट्स हमारे स्टमक से भी ब्लड में absorb हो जाते हैं। पर उन्हें count करना बिल्कुल भी सही नहीं होगा।

अब देखिए फूड को आसानी से शरीर में absorb होने के लिए यह बहुत जरूरी है कि स्टमक में ही फूड बिल्कुल छोटे छोटे टुकड़ों में टूट जाए, इसके लिए हमारा स्टमक कई तरीके के केमिकल्स को रिलीज करता है।

आमाशय की संरचना

देखिये हमारे स्टमक में ये जो rugae हैं, उसमें कई सारे gastric सेल्स होते हैं, एक article में मैंने आपको इन सभी से उसके बारे में बताया है। देखिए हमारे स्टमक के इन्हीं लाइनिंग में जिन्हें rugae कहते हैं, उसमें एक cell होता है, जिसे कहते हैं, G Cell. यह जी सेल सबसे पहले gastrin हारमोंस रिलीज करता है। जब भी हम कोई फूड खाते हैं, तो वेगस नर्व के स्टिमुलेशन से यह जी सेल एक्टिवेट हो जाती है, और gastrin हार्मोन रिलीज करती है।

gastrin

यह gastrin हार्मोन डायरेक्टली जाकर हमारे इस ecl cell यानी एंटरोक्रोमेफिन लाइक सेल को stimulate कर देता है, histamine बनाने को, हिस्टामाइन जाकर bind हो जाता है, हमारे parietal cell से और ये parietal cell को एक्टिवेट कर देता है, hcl बनाने के लिए…

Gastrin हार्मोन directly भी हमारे इस पैराइटल सेल को stimulate कर देती है, एसिड बनाने के लिए… साथ ही साथ एसिड बनाने के साथ यहीं पैराइटल सेल intrinsic factor नाम के एक केमिकल को भी रिलीज करता है, जो हमारे शरीर में विटामिन B12 के अब्जॉर्प्शन के लिए बहुत ही ज्यादा जरूरी होता है। यह ना हो तो विटामिन B12 कभी अब्सॉर्ब ना हो हमारे शरीर में।

pepsinogen

और यही gastrin हमारे इस चीफ सेल को stimulate कर देता है, pepsinogen रिलीज करने के लिए। यह जो pepsinogen रिलीज होता है, वह एक डीएक्टिवेट फॉर्म में रहता है। तब तक, जब तक कि वह पेट के acid के संपर्क में ना आ जाए। acid के सम्पर्क में आने से ये एक्टिवेट होकर में pepsin बदल जाता है, और क्या करता है जो हम फ़ूड खाते हैं, जिसमें प्रोटीन होता है, उसे छोटे-छोटे टुकड़ों में तोड़ कर smaller peptides तोड़ देता है,  इतना ही नहीं यही chief cell एक और केमिकल रिलीज करता है, जिसे गैस्ट्रिक lipase कहते हैं, यह क्या करता है, यह जो हमारे भोजन में lipids होते हैं, उन्हें hydrolysis करके उन्हें फैटी एसिड और diglyceroid में बदल देता है।

छोटी आंत कैसे काम करती है – working of small intestine

stomach में रिलीस होता हैं mucus

अब देखिए हमारे स्टमक में जो एसिड बनता है, जो कि हमारे भोजन को ब्रेकडाउन करने में मदद करता है। दरअसल यह हमारे पेट की जो इनर लाइनिंग है, इसे भी damage पहुंचा सकता है, इसका भी कोरोजन कर सकता है। इसलिए प्रकृति ने हमारे स्टमक के इन इनर लाइनिंग पर कुछ mucous cell भी दिए हैं, यह surface mucous cell और यह है mucous neck cell दोनों ही हमारे सरफेस के इनर लाइनिंग पर म्यूकस बनाते हैं, जो क्या करता है, हमारे stomach को बचाता है, acid के प्रभाव से और हमारा स्टमक कभी डैमेज नहीं होता है। यह mucous neck cell एक स्टेम सेल होती है, जो आगे बढ़ती जाती है. Mucous cell को बनाने के लिए और यह सरफेस म्यूकस सेल heavily म्यूकस का निर्माण करती है।

Previous articleछोटी आंत कैसे काम करती है – working of small intestine
Next articleभोजन नली कैसे काम करती हैं – esophagus working hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here