पॉलिटेक्निक क्या है – polytechnic in hindi

polytechnic kya hai – आप अक्सर अखबार में एडवर्टाइजमेंट के रूप में देखते हुए कि आप पॉलिटेक्निक कर लो आपको बहुत ही अच्छी जॉब मिल जाएगी. वह भी बहुत ही कम समय में और आप सुने भी होंगे कि फला प्रोजेक्ट के लिए फलां पॉलिटेक्निक इंजीनियर की आवश्यकता है.

लेकिन यह सब बात का महत्व तो तब है ना जब आप यह समझोगे कि आखिर पॉलिटेक्निक होता क्या है ? पॉलिटेक्निक करके आदमी के अंदर skill आती है. यह कौन से क्षेत्र की पढ़ाई है और किस क्षेत्र में पॉलिटेक्निक का सर्टिफिकेट ले सकता है.

इसीलिए जानना आपके लिए बहुत जरूरी होगा। इस आर्टिकल में पॉलिटेक्निक होता क्या है और किस क्षेत्र में व्यक्ति स्किल्ड होता है ये कोर्स करके, ये सब जानेंगे…

polytechnic ka matlab –

जैसा कि आप जानते हैं पॉलिटेक्निक दो शब्दों से मिलकर बना हुआ है poly और technic से. पॉली एक ग्रीक शब्द है जिसका मतलब बहुत होता है यानी बहुत ज्यादा या कई सारी चीजों को डिनोट करने के लिए पॉली शब्द का इस्तेमाल किया जाता है. वहीं टेक्निक का मतलब तकनीक से है.

मतलब किसी भी चीज का निर्माण करने के लिए उस क्षेत्र में प्रवीण होना तो मतलब पॉलिटेक्निक का अर्थ होता है. बहुत से चीजों के निर्माण में प्रवीण बनाने वाले विद्या।

ई मेल क्या हैं – what is email in hindi

पॉलिटेक्निक क्या है –

पॉलिटेक्निक एक तरह का डिप्लोमा कोर्स होता है जोकि ग्रेजुएशन यानी स्नातक के सर्टिफिकेट से एक चरण नीचे होता है. पॉलिटेक्निक डिप्लोमा में लोग इंजीनियरिंग का कोर्स करते हैं लोग अपने मनचाहे फील्ड के इंजीनियरिंग में डिप्लोमा डिग्री लेकर वहां पर जूनियर इंजीनियरिंग के पद पर कार्यरत हो सकते हैं.

पॉलिटेक्निक दसवीं पास करने के बाद भी सीधे आवेदन किया जा सकता है. दसवीं पास के बाद पॉलिटेक्निक का कोर्स 3 साल का होता है. वही अगर आप 12वीं पास करने के बाद पॉलिटेक्निक में डिप्लोमा लेना चाहते हैं तो आपको 2 साल का पॉलिटेक्निक का कोर्स करना होता है.

और पॉलिटेक्निक के बाद अगर आप इंजीनियरिंग करना चाहते हैं यानी आप इंजीनियर के साथ स्नातक डिग्री लेना चाहते हैं तो आपका सीधे इंजीनियरिंग के द्वितीय वर्ष में एडमिशन होगा।

पॉलिटेक्निक क्या है
पॉलिटेक्निक क्या है

अगर आपको पॉलिटेक्निक में एडमिशन लेना है तो इसके लिए आपको 10th या 12th का पास होना बहुत जरूरी है. इसके लिए कुछ निर्धारित अंकों की भी आवश्यकता होती है. जो कि अलग-अलग यूनिवर्सिटी और कॉलेज के अनुसार अलग-अलग हो सकता है.

और आपको किसी भी विशेष राज्य या सेंट्रल गवर्नमेंट के यूनिवर्सिटी और कॉलेज में इंजीनियरिंग डिप्लोमा यानी पॉलिटेक्निक के लिए आवेदन करना होगा। जैसे CET (कॉमन एंट्रेंस टेस्ट) जैसे चीजों का उसके बाद आपको यूनिवर्सिटी कॉलेज के अनुरूप अंको को लाना होगा।

लोकतंत्र क्या हैं – what is democracy in hindi

जिस के अनुरूप आपको उस कॉलेज में एडमिशन मिल सकेगा. अगर आपको गवर्नमेंट कॉलेज की जरूरत होगी तो आपको ज्यादा से ज्यादा अच्छी रैंक लानी होगी। नहीं तो आपको प्राइवेट कॉलेज से ही काम चलाना पड़ेगा।

गवर्नमेंट कॉलेज की खासियत यह होती है कि गवर्नमेंट कॉलेज में फीस काफी कम लगता है. सरकारी पॉलिटेक्निक के लिए तो आपको ₹8000 में ही बहुत आसानी से काम चल जाएगा. लेकिन प्राइवेट कॉलेज में आपको ₹50000 तक खर्च करना पड़ सकता है.

राज्यपाल को शपथ कौन दिलाता हैं

पॉलिटेक्निक के लिए योग्यता (polytechnic criteria hindi) –

  • अगर आपको polytechnic करना है तो आपके लिए जरूरी है कि आप कम से कम 10 वीं तो पास जरूर किए हो.
  • आप 12वीं के बाद भी डिप्लोमा कोर्स कर सकते हैं दसवीं के बाद डिप्लोमा कोर्स 3 साल का होता है 12वीं के बाद पॉलिटेक्निक 2 साल का होता है.
  • पॉलिटेक्निक में एडमिशन लेने के लिए आपके पास कम से कम 35% मार्क्स तो होने ही चाहिए साइंस मैथ और इंग्लिश के सब्जेक्ट में.
  • साथ ही साथ आप अपने वांछित कॉलेज या यूनिवर्सिटी के प्रवेश परीक्षा को पास भी किए हैं या आप सीधे मैनेजमेंट कोटा से एडमिशन ले सकते हैं.

प्यार क्या हैं – what is love in hindi – love in hindi

पॉलिटेक्निक के फायदे –

पॉलिटेक्निक कोर्स करने से आप बहुत ही कम समय में जॉब को प्राप्त कर सकते हैं क्योंकि पॉलिटेक्निक का कोर्स ज्यादा से ज्यादा केवल 3 साल का ही होता है और पॉलिटेक्निक में बिल्कुल टेक्निकल पढ़ाई हो की तरह ही सब कुछ प्रैक्टिकल्स कराया जाता है.

ट्रेनिंग भी दी जाती है. पॉलिटेक्निक आप केवल 10 से 12वीं पास करने के बाद ही कर सकते हैं. इसके साथ ही पॉलिटेक्निक में एडमिशन लेने से आप को इंजीनियरिंग के दूसरे साल में सीधा एडमिशन मिल जाता है.

पॉलिटेक्निक के कोर्सेस –

  • Diploma in Computer Science and Engineering
  • Diploma in Civil Engineering
  • Diploma in Automobile Engineering
  • Diploma in Electronics and Communication
  • Diploma in Electrical Engineering
  • Diploma in Interior Decoration
  • Diploma in Fashion Engineering
  • Diploma in Ceramic Engineering
  • Diploma in Art and Craft
  • Diploma in Mechanical Engineering
  • Diploma in Chemical Engineering
  • Diploma in Instrumentation and Control Engineering
  • Diploma in IT Engineering
  • Diploma in Electronics and Telecommunication Engineering
  • Diploma in Aeronautical Engineering
  • Diploma in Petroleum Engineering
  • Diploma in Aerospace Engineering
  • Diploma in Mining Engineering
  • Diploma in Automobile Engineering
  • Diploma in Genetic Engineering
  • Diploma in Biotechnology Engineering
  • Diploma in Plastics Engineering
  • Diploma in Agricultural Engineering
  • Diploma in Food Processing and Technology
  • Diploma in Dairy Technology and Engineering
  • Diploma in Power Engineering
  • Diploma in Infrastructure Engineering
  • Diploma in Production Engineering
  • Diploma in Metallurgy Engineering
  • Diploma in Motorsport Engineering
  • Diploma in Environmental Engineering
  • Diploma in Textile Engineering

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here