भूगोल क्या है – what is geography in hindi

bhugol kya hai – आपने स्कूल में भूगोल तो पढ़ा ही होगा आप ये भी जानते ही होंगे कि यह भूगोल हमें हमारे शिक्षा में कितना ज्यादा महत्वपूर्ण योगदान देता है. इसी भूगोल की सहायता से ही हम यह जान सकते हैं कि हम पृथ्वी के किस भाग पर मौजूद हैं.

हम पृथ्वी के किस देश में हैं, इस देश के किस राज्य में मौजूद है और कौन से शहर में मौजूद था और अब तो टेक्नोलॉजी इतना ज्यादा आ चुका है कि अब इस पृथ्वी के भूगोल में आप कहीं पर भी हो आप का पता चला लगाया जा सकता है.

लेकिन अगर आपसे कोई यह कह दे कि भूगोल को सही-सही परिभाषित करो कि भूगोल होता क्या है, तो क्या आप यह बात बता सकते हैं कि भूगोल क्या होता है.

हां आप साधारणतया तो यह सब बता सकते हैं लेकिन इस आर्टिकल में आज आपको हर एक चीज जानने को मिलेगा भूगोल के बारे में जो आप बिल्कुल धड़ल्ले से किसी के भी सामने बता सकते हैं.

भूगोल क्या है (what is geography in hindi) –

जैसा कि आप जानते हैं भूगोल दो शब्दों से मिलकर बना हुआ है, भू और गोल. भू मतलब जैसा कि आप जानते हैं जमीन होता है और गोल का मतलब किसी भी वस्तु के आकार को दर्शाना जो कि वृत्ताकार हो.

अब हमारी पृथ्वी भी बिल्कुल गोल है और हमारे पृथ्वी के जिस ऊपरी सतह पर हम रहते हैं उसे भूमि या भू भी कहते हैं तो इस हिसाब से आप कह सकते हैं कि इस पृथ्वी के ऊपरी सतह पर मौजूद व्यवस्थाओं जैसे देश, महाद्वीप, समुद्र, पहाड़, प्रकृति आदि का अध्ययन करने वाले शास्त्र को भूगोल कहते हैं.

जिसमें हम इन सभी चीजों का अध्ययन करते हैं और पृथ्वी के ऊपरी भाग का विभिन्न तत्व जो कि अंतरिक्ष तत्व भी हो सकते हैं उनके साथ पृथ्वी के ऊपरी भाग सहित पूरे पृथ्वी के समन्वयन का भी अध्ययन करते हैं.

और अंग्रेजी में इस भूगोल को जियोग्राफी (geography) कहते हैं जो कि एक ग्रीक शब्द है. ज्योग्राफी भी दो शब्दों से मिलकर बना हुआ है जियो और ग्राफी।

जहां जियो शब्द रिप्रेजेंट करता है भूमि को, जैसा कि मैंने बताया पृथ्वी की ऊपरी सतह को. और ग्राफी का मतलब किसी भी चीज को लिखित रूप में वर्णन करना ग्राफी कहलाती है, तो ज्योग्राफी वह शास्त्र ,है जिसमें पृथ्वी के भूगोल का वर्णन लिखित रूप से किया जाता है.

भारत का सबसे गर्म शहर कौन सा है – hottest city in india

भूगोल कितने प्रकार के होते हैं? – भूगोल की शाखाएं

समय के साथ साथ जैसे-जैसे मानव ने विकास किया वैसे वैसे ही मनुष्य ने भूगोल का अध्ययन करने के लिए भूगोल को कई शाखाओं में भी बाँट दिया…

भौतिक भूगोल – इसमें विभिन्न प्रकार की स्थलाकृतियो, तटीय संबंधी भूगोल, हीम क्रिया विज्ञान, मृतिका विज्ञान, वायु विज्ञान, समुद्र विज्ञान आदि का अध्ययन किया जाता है.

आर्थिक भूगोल – इसमें मानव जो पृथ्वी का उपयोग कर जो आर्थिक लाभ पाता है उसका अध्ययन किया जाता जैसे खनिज, कृषि, उद्योग, शक्ति भंडार परिवहन आदि का.

मानव भूगोल – इसमें वातावरण मनुष्य की जनसंख्या प्राचीन काल से मनुष्य का प्रकृति के साथ समन्वयन, आवासीय ग्रामीण और शहरी जनसंख्या आदि का अध्ययन।

ऐतिहासिक भूगोल – इसमें प्राचीन मध्य और आधुनिक इतिहास में भूगोल से संबंधित चीजों का अध्ययन किया जाता है जैसे पुरातत्व.

रचनात्मक भूगोल – इसमें सर्वेक्षण पृथ्वी के बने हुए कुछ अजीब सा कलाकृतियां जीवो मनुष्यों का स्थानांतरण आदि का अध्ययन.

राजनीतिक भूगोल – इसमें अंतरराष्ट्रीय, राष्ट्रीय, औपनिवेशिक भूगोल, शीत युद्ध का भूगोल सैनिक और सामरिक जैसी चीजों का अध्ययन किया जाता है.

प्रादेशिक भूगोल – इसमें प्रधान तथा सूक्ष्म प्रादेशिक भूगोल का अध्ययन किया जाता है.

केसर का सर्वाधिक उत्पादन किस राज्य में होता है

भूगोल के पिता –

भूगोल के पिता के विषय में काफी मतभेद है. लेकिन जो जानकारियां हैं वह आपको देते हैं. समाज भर में भूगोल के पिता तो इरेटोस्थनीज को माना जाता है जो कि आज से 2,200 से 2,300 साल पहले यूनान में पैदा हुआ था.

यह एक यूनानी गणितज्ञ कवि और खगोलविद था. इरेटोस्थनीज ने पहली बार जियोग्राफी शब्द का प्रयोग किया था. परंतु कुछ लोग हिकेटियस जो कि यूनान का ही था, उसके प्राचीन ग्रंथ Ges Periodos के नाम पर उसे भूगोल का पिता कहते हैं.

पृथ्वी के नीचे क्या है – पृथ्वी की जानकारी

मानव भूगोल क्या है (anthropogeography in hindi) –

मानव भूगोल भूगोल की वह शाखा है जिसके अंतर्गत मानव की उत्पत्ति जब से हुई है तब से लेकर अब तक मनुष्य ने पर्यावरण के साथ किस तरह से संबंध बनाया हुआ है, किस तरह से पर्यावरण या प्रकृति का उपयोग कर वह अपने जीवन को जीने में लगा हुआ है इस बात का अध्ययन करते हैं.

यह भूगोल का एक अत्यंत लोकप्रिय शाखा है इसे अंग्रेजी में एंथ्रोपॉजियोग्राफी कहते हैं. जैसे उदाहरण के लिए हम यह कह सकते हैं कि किसी विशेष भूभाग पर जनसंख्या कितनी है इसे हम मानव भूगोल के द्वारा ही जानते हैं.

bhugol kya hai
bhugol kya hai

मानव भूगोल के जन्मदाता कौन हैं –

आधुनिक मानव भूगोल के जन्मदाता फ्रेडरिक रेटजेल है. जिनके अनुसार मानव भूगोल को आप सर्वत्र पर्यावरण से संबंधित पाएंगे. जो कि स्वयं ही भौतिक दशाओं का ही एक योग्य होता है, यानी जो भौतिक दशकों से प्रभावित होता है.

विश्व का सबसे बड़ा महासागर कौन सा है

भूगोल की प्रकृति –

जब भी हम किसी भी विषय के प्रकृति की बात करते हैं तो हम यह साबित करना चाहते हैं कि उस विषय की प्रकृति क्या है उस विषय में किन-किन चीजों का अध्ययन होता है चलिए जानते है कि भूगोल की प्रकृति क्या है…

भूगोल में भूतल का अध्ययन होता है जिसमें पृथ्वी की सतह पर दिखने वाले हर चीज का अध्ययन किया जाता है. यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि पृथ्वी की सतह पर जो भी प्राकृतिक रूप से पाई जाती है.

उसी का अध्ययन किया जाता है. साथ ही साथ भूगोल मनुष्य का उस पृथ्वी की सतह के तत्व के अंतर संबंधों का भी अध्ययन किया जाता है जो कि एक बहुत ही गहरा विषय है.

क्योंकि मनुष्य धरती पर बहुत साल से है और मनुष्य ने प्रकृति के साथ अपना समन्वयन बनाया हुआ है, साथ ही साथ भूगोल एक अनुप्रयुक्त विज्ञान भी है जिसमें किसी भी देश प्रदेश के आर्थिक प्राकृतिक मानवीय संसाधनों आदि का मूल्यांकन भी किया जाता है.

जैसे किसी क्षेत्र में कितने खनिज पदार्थ हैं वहां कितने प्रकार के जीव रहते हैं कितने प्रकार के पादप प्रजातियां वहां पाई जाती हैं इन सब चीजों का अध्ययन भी भूगोल में होता है.

बुध ग्रह की जानकारी – mercury planet in hindi

भूगोल शिक्षण के उद्देश्य –

  • भूगोल का सर्वप्रथम उद्देश्य पृथ्वी के भूतल का अध्ययन
  • भूगोल का द्वितीय उद्देश्य आप कह सकते हैं कि पृथ्वी कैथल पर मौजूद सभी प्राकृतिक तत्वों से मनुष्य का अंतर्संबंध का अध्ययन करना
  • भूगोल में सभी प्रकार के नदियों झीलों समुद्र पहाड़ दृश्य आदि सभी का अध्ययन किया जाता है
  • भूगोल के अध्ययन में जलवायु के परिवर्तन और उसके साथ साथ मौसम के पूर्वानुमान का भी अध्ययन किया जाता है
  • पृथ्वी के विभिन्न भागों पर मानव की जनसंख्या किस भाग पर कितनी ज्यादा है और किस तरह से फैली हुई है इस बात का अध्ययन भी भूगोल में होता है.